Hydrogen bomb test by North Korea in violation of UN Security Council resolutions

उत्तर कोरिया ने हाइड्रोजन बम परीक्षण कर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन किया

सियोल : उत्तर कोरिया ने बुधवार को एक हाइड्रोजन बम के सफल परीक्षण की घोषणा की । उसके इस कदम की पूरी दुनिया में आलोचना हो रही है । सुबह में उत्तर कोरिया में भूकंप आने की खबर जंगल की आग की तरह फैली, लेकिन कुछ ही घंटों बाद मीडिया रिपोर्टों में ऐसे कयास लगाए गए कि परमाणु परीक्षण स्थल के करीब आया भूकंप ‘अप्राकृतिक’ था ।

Hydrogen bomb test by North Korea in violation of UN Security Council resolutions
Hydrogen bomb test by North Korea in violation of UN Security Council resolutions

समाचार संस्था ‘योनहाप’ की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर कोरिया ने एक विशेष घोषणा में कहा कि उसने एक हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया है ।

योनहाप के अनुसार, बम परीक्षण सुबह 10 बजे किया गया । परीक्षण ‘पूरी तरह सफल’ रहा और इसके साथ ही उत्तर कोरिया ने हाड्रोजन बम के साथ परमाणु हथियारों से लैस देशों के बीच अपनी जगह बना ली है ।

Hydrogen bomb test by North Korea in violation of UN Security Council resolutions
Hydrogen bomb test by North Korea in violation of UN Security Council resolutions

दक्षिण कोरिया ने उत्तर कोरिया के हाइड्रोजन बम परीक्षण को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन करार दिया ।

उप विदेश मंत्री लिम संग-नाम ने कहा, “उत्तर कोरिया का उकसावा साफ तौर पर सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन एवं अंतर्राष्ट्रीय शांति व सुरक्षा के लिए एक गंभीर चुनौती है ।”

उत्तर कोरिया द्वारा हाइड्रोजन बम का परीक्षण करने की घोषणा किए जाने के बाद दक्षिण कोरिया ने अपनी सेना को सर्तक कर दिया है और उत्तर कोरिया की निगरानी बढ़ा दी है ।

उत्तर कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने कहा, “इस स्थिति को लेकर दक्षिण कोरिया एवं अमेरिका आपस में सहयोग कर रहे हैं ।”

दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ग्युन-हे सियोल में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद पर एक बैठक की अध्यक्षता करेंगी ।

वहीं, व्हाइट हाउस की ओर से कहा गया है कि वह उत्तर कोरिया के हाइड्रोजन बम के सफल परीक्षण के दावे की पुष्टि नहीं कर सकता । उसने उत्तर कोरिया द्वारा संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के उल्लंघन की निंदा की |

व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि ‘हम लगातार स्पष्ट करते आए हैं कि हम उत्तर कोरिया को एक परमाणु राष्ट्र के रूप में स्वीकार नहीं करेंगे । हम दक्षिण कोरिया सहित हमारे सभी मित्र राष्ट्रों की हिफाजत करते रहेंगे और उत्तर कोरिया के सभी उकसावों का समुचित तरीके से जवाब देंगे ।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *