The test report is not accepted JNU Student Union, JNU Su, vice Shehla Rashid

जेएनयू की जांच रिपोर्ट नहीं है स्वीकार : छात्र संघ

नई दिल्ली | जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ ने गुरुवार को कहा कि वह जांच कमेटी की रिपोर्ट को स्वीकार नहीं करेगा, क्योंकि प्रशासन ने छात्रों की मांगों पर विचार नहीं किया है। छात्र संघ की उपाध्यक्ष शहला राशिद ने जांच कमेटी में अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के प्रतिनिधियों को शामिल करने की मांग करने वाला प्रस्ताव रखा जिसे बुधवार को पारित किया गया।

The test report is not accepted JNU Student Union, JNU Su, vice Shehla Rashid
       The test report is not accepted JNU Student Union, JNU Su, vice Shehla Rashid

जेएनयूएसयू ने एक बयान में कहा, “छात्र संघ की मांग के बावजूद आरोपी छात्रों को अभी तक पूरी रिपोर्ट नहीं सौंपी गई है।”

छात्र संघ ने कहा, “आरोपी छात्रों के यह तक नहीं बताया गया है कि उनके खिलाफ आरोप क्या हैं। इस पक्षपातपूर्ण जांच पर हम किसी भी प्रकार की अनुशासनिक कार्रवाई का विरोध करेंगे।”

विश्वविद्यालय के कुलपति एम. जगदेश कुमार द्वारा गठित जांच कमेटी ने संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु की बरसी मनाने के लिए बीते नौ फरवरी को आयोजित कार्यक्रम के दौरान 21 छात्रों को विश्वविद्यालय के नियमों व मानदंडों का उल्लंघन करने का दोषी पाया है।

विश्वविद्यालय के चीफ प्राक्टर के दफ्तर से छात्रों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इस नोटिस का जवाब देने की अवधि को शुक्रवार तक के लिए बढ़ा दी गई।

जेएनयूएसयू ने उनकी चिंता का समाधान न निकालने के लिए विश्वविद्यालय की आलोचना की है।

एक छात्र नेता ने कहा, “छात्र संघ ने उच्चस्तरीय जांच कमेटी के गठन, संदर्भ और कामकाज के मामले पर चिंता जताई है। हमने जेएनयू प्रशासन से इस पर बात की है कि कमेटी ने जांच की प्रक्रिया में स्वाभाविक न्याय के सिद्धांतों का किस प्रकार उल्लंघन किया।”

कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर राष्ट्रविरोधी नारों को लेकर विश्वविद्यालय ने जेएनयूएसयू के अध्यक्ष कन्हैया कुमार व महासचिव रामा नागा तथा छात्रों अनंत प्रकाश नारायण, अनिर्बान भट्टाचार्य, आशुतोष, उमर खालिद, ऐश्वर्या अधिकारी तथा श्वेता राज को निलंबित कर दिया था। निलंबन को हालांकि पिछले सप्ताह वापस ले लिया गया।

                      News in English Translated by Google Translate .

New Delhi | Jawaharlal Nehru University Students Union said Thursday that he will not accept the report of the inquiry committee, the authorities did not consider the students’ demands. Shehla Rashid, Vice President of the student union committee investigation to include representatives of the Scheduled Castes and Scheduled Tribes, which proposed seeking was passed on Wednesday.

JNUSU said in a statement, “Despite the demands of the student union, accused the students do not yet have been given a full report.”

Students’ Union said: “The accused students were told that the charges against them do not even have. This biased investigation, we will oppose any disciplinary action.”

University Vice Chancellor M. Jagdesh Kumar investigation committee set up by Parliament attack convict Afzal Guru to celebrate the anniversary event held on February 21 during the last nine university students found guilty of violating the rules and norms.

Students from the University’s Chief Proctor’s office has issued a show cause notice. To respond to the notice period has been extended to Friday.

JNUSU resolve his concern not to remove the university has criticized.

A student leader said, “The students’ union has formed a high-level inquiry committee, has expressed concern over the case of reference and functioning. We have talked to the JNU administration committee in the process of examining how the violation of principles of natural justice up. ”

During the program, allegedly national slogans JNUSU president of the university and students Kanhaiya Kumar and General Secretary Anant Prakash Narayan Naga Rama, Anirban Bhattacharya, Ashutosh, Omar Khalid, Aishwarya and Shweta Raj officer was suspended. The suspension was withdrawn last week.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *