Khalid, Anirban 6 months interim bail

खालिद, अनिर्बान को 6 महीने की अंतरिम जमानत

नई दिल्ली | राष्ट्रीय राजधानी की एक अदालत ने राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय के छात्रों उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य को अदालत ने छह महीने की अंतरिम जमानत दे दी। दोनों को 25-25 हजार रुपये का मुचलका जमा करने का निर्देश दिया गया है।

 Khalid, Anirban 6 months interim bail
                                        Khalid, Anirban 6 months interim bail

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रितेश सिंह की अदालत ने दोनों आरोपियों को अदालत की इजाजत के बिना दिल्ली नहीं छोड़ने का निर्देश दिया है।

दोनों आरोपियों ने समानता के आधार पर जमानत की मांग करते हुए कहा था कि जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को भी इसी आरोप के तहत गिरफ्तार किया गया था, जिसे दिल्ली उच्च न्यायालय ने पहले ही अंतरिम जमानत दे दी।

कन्हैया कुमार के मामले से समानता के आधार पर छह महीने की अंतरिम जमानत देते हुए अदालत ने कहा कि उनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं रहा है और ऐसा कुछ भी सामने नहीं लाया गया है, जो यह संकेत दे सके कि जमानत के बाद उनके फरार होने की संभावना है।

न्यायालय ने कहा, “पुलिस की तरफ से ऐसा कुछ भी पेश नहीं किया गया है, जिससे यह साबित हो सके कि उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य पहले किसी आपराधिक मामले में शामिल रहे हों।”

न्यायालाय के मुताबिक, “उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ लगे आरोप हालांकि गंभीर हैं, लेकिन जैसा कि पुलिस ने कहा कि घटना की वीडियो फुटेज को जांच के लिए फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है। इसके विश्लेषण व अंतिम रिपोर्ट में निश्चित तौर पर कुछ वक्त लगेगा।”

वहीं, दिल्ली पुलिस ने जमानत का विरोध करते हुए कहा कि यह मामला कन्हैया कुमार के मामले से अलग है, क्योंकि वे नौ फरवरी को उस विवादित कार्यक्रम के आयोजनकर्ताओं में थे, जिसमें राष्ट्रविरोधी नारे लगाए गए थे।

दोनों छात्रों ने पिछले महीने पुलिस के समक्ष समर्पण कर दिया था। कन्हैया की 12 फरवरी की गिरफ्तारी के तुरंत बाद दोनों के खिलाफ दक्षिणी दिल्ली के वसंत कुंज थाने में एक मामला दर्ज किया गया था।

News in English Translated by Google Translate .

New Delhi | A court in the capital, arrested for treason students of Jawaharlal Nehrubiswvidyaly Umar Khalid and Anirban Bhattacharya, the court granted interim bail for six months. 25-25 Both have been directed to submit bond of Rs.

Ritesh Singh, both accused by the court of additional sessions judge court ordered not to leave Delhi without permission.

Both the accused sought bail on the basis of equality and said that the president of the JNU students union Kanhaiya Kumar was arrested under the same charges, the Delhi High Court had already granted interim bail.

Kanhaiya Kumar’s case on the basis of equality of the six-month interim bail, the court said they had no criminal history and was not made anything like that, which could indicate that the bail after his escape Not likely.

The court said, “Nothing has been done by the police, leading to prove that Omar Khalid and Anirban Bhattacharya are already involved in a criminal case.”

Nyayalay said, “Omar Khalid and the serious allegations against Anirban Bhattacharya, but police said the video footage of the incident was sent to the Forensic Science Laboratory for investigation. The analysis and final report on the course It will take time. ”

The Delhi police opposed bail, saying the case Kanhaiya Kumar’s case is different from the controversial program organizers that they were in February, nine of which were anti-national slogans.

Both students had surrendered to the police last month. Kanhaiya after the arrest of 12 February against the police station in south Delhi’s Vasant Kunj, a case was registered.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *